आकर्षक उन्माद भाग 4

मला जाग आली तेव्हा माझ लिंग ताठलेलच होत. मी तसाच ताठलेल्या लिंगाने किचनमध्ये गेलो. वैशालीला माझी चाहूल लागली तिने वृषालीकडे बोट केल. वृषाली बेसिनमध्ये वाकून काहीतरी धुवत होती. मी हळूच मागून जावून तिच्या आकर्षक योनीत लिंग घातले. तशी ती चित्कारली. मला प्रतिसाद देऊ लागली. दहा मिनिटे घुसलल्यानंतर लिंग शांत झाले. तेवढ्यात वृषालीने तोंड फिरउन मला खाली बसवले आणि म्हणाली, उठल्यापासून टाकी खाली केली नव्हती. आता घे माझे अमृत. मी तोंडाचा आ केला. माझ्या तोंडावर योनी ठेऊन ती लघवी करू लागली. मी वैशालीकडे पहिले तेव्हा ती म्हणाली आता नाही अंघोळीच्या वेळी. त्यानंतर मी बाहेरच्या खोलीत येऊन टी. व्ही. पहात बसलो. तोच दोघी हातात शिऱ्याच्या वाट्या घेऊन आल्या. माझ्या दोन्ही मांड्यावर बसल्या. मला शिरा भरउ लागल्या. मी दोन्ही हातानी त्यांच्या आकर्षक योनी चोळू लागलो. शिरयानंतर रसपान मिळेल ना? मी विचारले. नाही रे बाबा. वृषालीने देत असेल तर बघ वैशाली म्हणाली. अग नाशत्यानंतर जलपान हवेच. मी देईन माझ्या राजाला. अस म्हणत वृषालीने दोन्ही पाय डोक्याच्या बाजूला ठेऊन योनी तोंडावर ठेवली. त्यावेळी योनीतून योनीरस नुसता वाहत होता. तो मी जिभेने चाटून काढला. काय ग. तुझ्या गुहेची अवस्था कशी आहे. खुश आहे ना? मी विचारले. तू च बघ ना अस म्हणत वृषाली माझ्यासमोर पाठ करून ओणवी झाली. मी नितंब धरून फाकवले. तिची गुदा चांगलीच मोठी झाली होती. तिची गुदा बोटांनी चोळल्यानंतर मी माझ ताठ्लेल लिंग गपकन आत सारल. ओह बाप रे.. वृषाली जोरात ओरडली. तिचा आवाज ऐकून वैशाली बाहेर आली. आमचा खेळ पाहून हसू लागली. दणादण दणके मारीत मी विर्याचा फवारा सोडला. बाथरूममध्ये तर त्या दोघींनी मला खाली झोपवल. त्या दोघी माझ्या तोंडावर योनी धरून उभ्या राहिल्या. एकदम लघवी करू लागल्या.

त्यांचे गरम धबधबे मला न्हाऊन काढत होते. त्यानंतर आंघोळ करून मी झोपलो. कारण रात्री पुन्हा मनसोक्त मस्ती करायची होती. दोन दिवस वृषाली तृप्त होत होती. जाताना ती वैशालीला म्हणाली, ताई, काही दिवसांनी आणखी दोन मस्त तरुणी घेऊन येते याला हवी तशी मजा लुटू दे. हो हो आन बाई. तोपर्यंत याला उपाशी ठेवते. म्हणजे आणखी जोमाने तो चौघीबरोबर खेळू शकेल. वैशाली म्हणाली. मी मात्र मनोमन खुश होतो. चार सुंदर, मादक आणि तरुण आकर्षक अशा स्त्रियांना भोगायचे होते. त्याचे योनीरस, अमृत प्यायचे होते. पंधराच दिवसांनी वृषाली तिच्या अंजली आणि मनीषा नावाच्या आकर्षक मैत्रीणीना घेऊन आली. दोघीही सुंदर होत्या. वृषाली असल्याने पैशांचा प्रश्न नव्हता. सर्व तयारी झाली होती. प्रशस्त बेड बनउन घेतला होता. एखाद्या रंगमहलासारखी ती खोली सजवली होती. आम्ही चौघानी मद्यपान केले. मंद इंग्लिश संगीत सुरु होत. तेवढ्यात नृत्य करीत अंजलीने आपल्या अंगावरचे कपडे काढले. ती पूर्ण नग्न झाली.

तिघींनी तीच अनुकरण केल. चौघींचे आकर्षक स्तन हिंदकळत होते. एकमेकींचे स्तन दाबत होत्या. चुंबने घेत होत्या. माझ्याजवळ येऊन स्तन माझ्या तोंडात कोंबत होत्या. माझ्या अंगावर विजार होती. वैशाली वृशालीचे स्तन हापूस आंब्यासारखे, अंजलीचे साफरचन्दासारखे तर मनिषाचे नारळासारखे होते. तेवढ्यात अंजलीने माझ्या तोंडावर योनी ठेवली. मी तिची योनी चाटू लागलो. माझं लिंग चोखू लागली. वैशाली आणि वृषाली एकमेकींच्या शरीराशी खेळू लागल्या. उत्तेजित झालेल्या वृषालीने माझ्याजवळ येऊन माझ लिंग चोखायला सुरुवात केली. वैशाली वृषालीची योनी हाताने पुचू लागली. भरपूर वेळ लिंग चोखून झाल्यानंतर वैशाली मनीषला म्हणाली पुरे कर आता आणि मला ठोकून कढ आता. त्या रात्री मी चोघींच्या योनी ठोकून काढल्या. दुसऱ्या रात्री अंजली आणि मनीषाच्या गुद्द्वाराचा बोगदा केला. चार दिवस आम्हा पाच जनावर उन्मादाची नशा चढून राहिली होती. मनीषाने चांगलीच चौघींवर चांगलीच मजा मारली होती. आता सगळेच शांत पडले होते.

This entry was posted in Couple.

Sister Sat On My Lap In Car HOT!

My name is Sometime; am average height boy of 5’8. I’m fair looking and studying my B.Tech. This story is about how I enjoyed with my cousin while traveling to marriage function. Coming to the story, all our family members are planned to go to our relative marriage in car. Car is of luxury type but there are more persons than the seats. So some people have to sit on others lap for no other option. As I am the youngest of my family, everybody is interest to talk with me; my cousin asked may I sit on your lap. I said sure sister u can. Her name is Kala, age is 5 years elder than me. She came and sat on my lap. I wore cotton Jean and she wore sari.

Car started I had no bad intentions but during her sit without my knowledge my dick becomes hard. During the jumpiness on the road she is moving on my lap up and down touching her back to my dick. I don’t know what to do. I am getting very Horny by the moves. She completely sat on my dick, she is married, I think she know what is going on. I don’t know what to do, so I was leaning backward to my seat and sleeping.

Meanwhile my sis adjusting her sari under her back and unfortunately her fingers touched my dick, but she didn’t have any reactions. I kept my hands on her lap and sleeping, no other option for me to keep my hands there as the car is tightly packed. She didn’t said anything while jumpiness on the road my hand touching to her boobs. In the journey I hugged my sis very tightly as it is very cool inside because of ac, while hugging my hands crushed her boobs and my dick touched her ass. As I am younger in my family, she didn’t say anything and the journey was going. I enjoyed that feel. After reaching the marriage spot, we took a room and freshen up and went to marriage. At night 12 we all came back to room and sleeping. I slept beside my sis.

I changed my dress to shorts and t-shirt. She didn’t change the sari, I kept my hand on her stomach while sleeping, all other are sleeping, and room is very dark now. Her stomach is very warm. Her stomach is so nice, getting bad intentions in my mind about her. Getting fear for what she may think. I am about to keep my hand on her boob, she turned to my side and boobs are touched to my hands. I didn’t move. Unfortunately her hand touched my dick; I pressed my dick to her hands as I am in sleeping. She didn’t move I think she is in deep sleep. I really enjoyed her touch.

Morning again we started journey to our house in a car. Now I am in cotton shorts without underwear. She changed her dress to leggings and white color t-shirt. In that her boobs are looking very huge. As usual she sat on my lap, this time little bit different situation. We were in diff dresses. She is rubbing my dick with her ass unknowingly while talking with others. I kept my hands near her side thighs and found she too didn’t wear under wear. I am getting very excited. I am in a feeling that as I am touching her ass barely. My dick increased its size. As I seared cotton shorts, my dick can be very clearly felt by my sis. Friends it’s amazing that now my dick gone between her thighs, as she too seared cotton leggings, I thought it is not the thighs, I touched her cunt. Went little inside, as we wear clothes it is not properly inserted.

While jumpiness in the road created that as am fucking her, I think my sis enjoying this. We sat near to window; my right hand is not visible to anyone, kept my hand on her sides of right boob. She noticed that and she leaned towards the window as a result my hand crushed to her right boob, I got a green signal. I inserted my hand under her white cotton type banyan cloth, no one is noticing us. She didn’t wear any bra but banyan type cloth is there inside. My hands gone through the banyan touched her bare boobs, feeling was super. She played for some time and now she is rubbing her ass on my dick intentionally. She said your dick is very hard, your wife is so lucky to handle that.

I laughed with shy; she asked her mother to give her a blanket as it is very cold, she took a blanket and covered herself from shoulder to legs. Meanwhile I my lower was also covered. Now our lowers are no visible to others. Now she kept her hand below and took my dick outside. And she lowered her leggings now she sat barely on my bare lap. Already her cunt is wet; due to car moving my dick went inside her cunt and it is very warm there. I released my cum in her. We both enjoyed the journey. We pack up properly after the fuck session. She said I love your lap. Thank u I said. Really it was my sweet memory and my first fuck. Thank u friends for your patience for reading this.
Enjoy.

This entry was posted in Incest.

On A Rainy Night With My Elder Sister HOT!

Hello everyone!  I live in Bangalore. I’m 19 years old. I’m currently doing my 2nd year of college. The story I’m about to you tell you happened 3 months ago. This is a real story; you’ll believe it once I start explaining.

Let me explain about myself first. I’m 6′ feet tall, slim, have broad shoulders and 6 inch rock hard cock. This incident happened between my elder sister and me. She is 6 years older than me. Let me explain about her. She is very fair, 5’10 feet tall with a size of 36-30-36. She is a little chubby. We are a modern family. My parents stay in my native. My sister got a job in Bangalore and she stayed as a paying guest for two years. When I joined college in Bangalore, we decided we could stay together.

During our childhood we were like every brother and sister, fighting, playing. In this story I almost fucked my sister, yes almost! So people can leave if you’re not interested. To explain this incident I need to explain you few other incidents first.

 During my high school, my sister was studying her undergraduate in my native. During that time I came to know all about sex and I was not able to be free with my sister. My sister is usually so close to me. She used to hug me every now and then. Whenever she was with me, she will brush her boobs on my shoulder or somewhere else. Till my high school I didn’t notice this but after entering into college, I started getting excited. I stared grazing my sis’s boobs and ass whenever possible and she too didn’t mind that.

One day I and my sis visited a temple near our house and it was a lot crowded on that day. We entered the temple and few auspicious places were a lot crowded. People come to temple to molest ladies and girls in the place where I’m from (I too used to do it). On that specific day my sis was also one of the victims. People started touching her at crowded places, my sis got really annoyed and it benefited me. She came so close to me such that my cock was touching her ass all the time. I almost tried to control my hard on but couldn’t. She must have felt it too but she didn’t move away. And I also touched my sis’s boobs few times in the crowd. It was the softest thing I ever touched in my life. I masturbated again and again that day. I started finding opportunities to touch my sister from then.

My father bought me a bike during my high school. During my sister’s third year sem holidays she asked me to teach her how to ride gear bikes. I was more than happy to teach her, I said yes. We went to an empty ground near my house and there were no one around. I explained her everything about gear bikes like how to shift gears, etc. Then I told her to climb the bike, she did. I told “OK now try to release the clutch” she told me to get on the bike behind her. I told her doubles in a two Wheeler was tougher during learning stage but she was reluctant and I climbed on the back of her. Oh my god! That was the best experience. I had my hands at her waist. I grazed her boobs whenever she switched off the bike. Eventually she learned how to keep the Engine running and started driving in road, but she did not have steering control and I brought my hands near the steering handle bar. My god, my dick was almost into her ass. I too got a lot of cleavage during this time.

After these incidents, she got placed in college and left for Bangalore. I was frustrated for a long time. Then I planned my college life and selected a college in Bangalore. I moved in with my sister.

We had two bedrooms and each of us sleep alone in their room. I started enjoying cleavages and occasional grazing of my sis’s boobs and ass. During the rainy season in Bangalore, lightning and thunderstorm are a lot common. Rainy season started a week ago and it was raining so badly with thunders. One day my sis came to my room and said “bro, I have not slept for the past one week because of thunders, can I sleep here tonight” I told yes immediately. Since it was very cold on the floor, we decided to sleep together in my bed. She slept with hugging me and she fell asleep immediately, but I couldn’t. As she was hugging me so closely, I wasn’t able to move my hands without touching her boobs. I moved my hand twice or thrice intentionally to rub her boobs. Then I slid a little lower in my bed such that my face was directly opposite to her boobs. I lay like this for ten minutes, and then she herself came closer to me such that her boobs hit me in the face. It was the time of my lifetime. I licked her soft boobs few times. I put my hand against her back and slowly slid it into her tops. I found her bra there. I had an urge to unbutton it, but decided against it.

I was too horny at that time; I wanted to grab such a big ass. I put my hand in her ass, it was so soft and sexy. But I wanted to rub it or grab it. So I rubbed it, she woke up immediately, I was really afraid but I managed to rub my ass too. She thought I rubbed her ass mistakenly instead of mine due to mosquito bites. I waited the next half an hour to be sure that she had give to deep sleep. She was facing the fan at this time and there was lot of space between us, I opened my palm and placed it in between us (I knew she would turn and sleep facing the bed). She did the same exact thing, now my hand was stuck at her breast as she was facing towards the bed. I enjoyed her boobs a lot and I removed it my hands once she changed her position. Now she was facing away from me.

I went near her and touched her ass with my dick, I rubbed a little. She looked like she would wake so I stopped. Now I opened my palm and kept it between us, she turned again facing the fan my hand was stuck with her ass. I rubbed it for sometime and masturbated when she faced away from me. This repeated for the next whole week. This is just the beginning. I’ve had a lot of soft-core experiences with a lot of my family members. If you like it let me know let me know I will share every hiring evidence with you guys.

Seducing Widow Maid To Fuck

Hi I am 23 year old. I work as a software engineer in Hyderabad. I stay with my brother whose office is also near to mine. So we stay together, his office timings are completely night shift and mine are day shifts. So at night I stay alone most times. I am always horny when alone. We have a maid called Manisha, she works for all of families in building; she is a good looking aunty with sexy rounded ass, slim waist, 26 years old and has a sad past. When she was in college and 18 years old she got married and in soon pregnant with a baby girl. After six month he left her and got killed in an accident. She wants to marry again, hasn’t found a man yet though we have arranged a children’s home for her child. So she stays with her kid in same building and works as a maid for all of the families, she takes care of her body nicely.

My brother has got married and he usually goes to my home town for every two three weeks to spent time with his family. So I will stay alone in my room at that time which could be 2 to three days. I will spend most of the time in room on net and so alone. Manisha serves breakfast and then cleans the house; usually I go out when she cleans my room. Usually I am on net with my work, also watching some porn and put the screen off when she comes. She always been my sex fantasy from the day of we joined in that room, most of the guys will have sexual desires towards any widow, or single lady, because they are alone nobody would care for them, it is easy to fuck them, and so I. I usually look at her voluptuously.

So one day while I was alone in room, my brother has gone to home town, I thought of seduce her. While she about to come to home at regular time 10AM, I had put some sex pic on desktop and went into bathroom. And as usually she came in started cleaning bed room which has attached bathroom in which I was in. I have seen her peeping into the screen some time. As I suddenly opened the bathroom door, she just ran away smiling. Next day when she came to clean I kept the screen on with a sex clip with some songs first and scenes later. I left when the songs started and went to bathroom. And I kept looking through the small hole, when I looked she was watching the scene and pressing her boobs. She has nice round boobs with good nipples, have seen them when she bends to clean. I took It as a best chance.

I came in slowly and held her from back and asked, “he you like that??” She ran away giggling. I then called her and slowly asked her “you like to see more?” she didn’t say anything. I put on some more clips and asked her to stand near me. slowly I started to rub on her hands and ass which she said, “I am afraid of madam”. I told her, “it is OK, this will be our secret, do you like to see more and enjoy?” She said, “Sometimes”, I put on some more clips I stood up and slowly pulled her close to me and started smooching her, she hesitated but I said, “I will not do anything you don’t like, OK, just enjoy” I started kissing her forehead, cheeks and ears and rubbing her neck and ear lobes…my cock was hard and I pushed it on her thighs and slowly started kissing her on the lips, I sucked her lips for some minutes, she was afraid and did not want to continue.

 

Next day when she came I stayed on my chair and asked her “how is it today? You want to see? or should I go?” she just smiled and started to clean. I put on a sex CD and slowly pulled her up and started smooching, kissing her on the lips and hugging tight with her breasts on my chest and my hard cock pushing into her thighs. She was wearing a salwar and top I started rubbing her ass and pressing her towards me. I told her,” Manisha don’t be afraid, just enjoy, I won’t do anything without your liking it, just let us kiss and enjoy” Saying this I started to suck her lips, slowly she opened her mouth and I put my tongue inside and asked her to put hers inside me, she hesitantly did and started liking it. She held me tight with hands around me and I inserted my hand inside her salwar and rubbed on her ass and up on her back inside the top.

I asked, “How is it Manisha? There is no harm playing with hands and rubbing, if you like”. She kept quiet and I started to hold her boobs inside her loose bra from the low cut top and slowly unhooked her bra. “Manisha dear just enjoy let me kiss your boobs” saying this I lifted the top and started kissing and lick the nipples, she held me tighter with heavy breathing. I continued smooching and licking her boobs and slowly I took her hand pressed it on my cock, she pulled it back first but I pressed again saying, “you also rub dear” she started holding it and pressing, I opened the lungi and put it in her hands and asked her to rub. She said,” it is so big”. “Yes dear hold it tight and rub pulling the skin down from the head”, she started doing that… after some time she must have cummed, so she said, “ho enough, I have to go”. I asked her to finish me by rubbing hard; she did to make me cum into her palm and my lungi. She left. We started smooching each other whenever we get a chance. Then Saturday and Sunday, all at home no chances.

Monday came and I took the leave cause my brother did not returned from home, so I thought of to have sex with her in any case, she came to clean but I asked her to come after sometime. She later came with no bra and panty and started cleaning. I was doing bath while she came, and she as usually started her routine work. My dick became so erected in imagining her. I came out from the bathroom wearing only lungi around my waist. And my dick was almost clearly visible which is in the shape of a big rocket. As soon as she saw me in that position her eyes intently fell on my dick. I smiled in myself. I was wiping all of my body with towel, and wiped my inner parts also, She is smiling in herself and kept a eye on my tool, resumed her work.

After I finished wiping my body, I held her from back, by pressing her ass with my erected dick hardly, it made her so aroused. And I asked “Manisha, do you want CD or real?” She smiled and replied, “when real is there what to see on CD?” I lifted her and pressed her towards me. she started searching for my cock, me sucking her lips and lifting the top saying, “he u have no bra?” she just smiled. I took the boobs and kneaded them and started sucking… she held my cock and started rubbing. I slowly pulled her salwar down and said, “he no panty also, ho my Manisha u are nice?” saying that I rubbed on her pussy and fingered the hairy pussy.

I pushed my cock into her thighs and asked “Amisha hold him close and rub it on yours just outside on the lips”. She started rubbing and started moaning “he u like it? Are you safe? u want it in?” “No” she said, “not now, may be later ok?” I rubbed my cock on her clit and pussy lips and she went on rubbing it while I sucked her boobs and rubbed her ass. She started pushing hard saying, “Hum, hum, ha push hard.” and rubbed my cock hard making it cum on her thighs. I rubbed some of my cum on her boobs and rubbed “ha, ha” she also cummed. We kissed each other for some time and left. This continued for next days and we tried lot of other things to make each other cum. One day she sucked my cock, ho such a nice blow job, a good learner and I sucked her pussy (she shaved it and cleaned it).

After 2, 3 week, she came with her skirt and top and smiled. I held her close and started kissing and sucking, took off her skirt and top and asked her to take off my lungi, so we were naked. She smiled and said, “Sir today it is OK”. I hugged her close, she took my cock rubbed it and started slipping it on her pussy, I started pushing inside, I sat on the bed and asked her to come over me. She sat on my thighs, I started kneading her boobs and sucking them while she started slipping and pushing her pussy lips on my cock slowly making it enter her. wow a tight pussy but hot and slippery.. She went on slowly pushing and finally mine 7″ long got lost in her cunt, wow so nice and hot. I asked her to go on pushing as she likes it; riding my cock into her pussy. She went on rocking and pushing and then started tightening her pussy muscles on my cock signaling me to push.

I also pushed up with my balls pressing on her thighs and she started moaning and pushing hard ha ha “fuck me sir, please fuck me” I pushed hard into her and cummed, pumped my hot milk in to her pussy and she lied on me for some time with her boobs in mouth and my limbing cock in her oozing pussy. After cleaning up and lunch I fucked her again in doggy position, wow her nice thick pussy is good for doggy and she also enjoyed my balls hitting her ass when pushing. So we had a week of wonderful sex during days.

Moreover, we enjoyed together for a week alone when my brother family went on a tour; fortunately that was safe week for us.

This entry was posted in Aunty.

বান্ধবীকে চোদার চটি

বান্ধবীকে চোদার চটি আজ যে ঘটনা টি আপনাদের সাথে share করতে চলেছি সেটি আমার দিতীয় gf, Annie কে নিয়ে. ইতিমধ্যে H.S পাস করে গেছি.Collage এ ভর্তি হয়েছি, Engineering collage .তাও 1st yr .দাদা দের শাসন আর পরাসনার চাপ দুটি খুব বেসি.প্রথম gf এর সাথে breakup হয়েগেছে বেস কিছুদিন হলো. মনে টাও ভালো থাকেনা,বাড়ির বইরে একা একা থাকতে হচ্য়ে.সময় কিছুতেই কাটতে চায় না.এরে মধ্যে দেখতে দেখতে 1st সেমিস্টার exam ও হয়েগেল.কিছুদিনের জন্য ছুটি তে বাড়ি ঘুরে গেলাম.মেস এ ফিরে ভাবলাম অনেক হয়েছে এবার একটা gf জোটাতেই হবে নাহলে সময় কাটানো খুব মুস্কিল হয়েজাচ্যে.ঠিক এই সময় এক senior এর সুত্রে তার বান্ধবীর বান্ধবীর সাথে আলাপ জমে উঠলো.ক্রমে ফোনে এ কথা থেকে proposal সবে হলো.

বাংলা চটি মাগীটা মেডিকেল এর স্টুডেন্ট ছিল.খাসা মাল একবারে.যেমন ফিগার তমন দেখতে.উঁচু উঁচু পাছা,রাস্তা দিয়ে হেঁটে গেলে যে কারোর ধন ঠাটিয়ে যেতে বাধ্য.আর ছিল খাই খাই ভাব..যখনি কাছে থাকত মনেহত অর সাথে কিছু একটা করলে ও যেন শান্তি পায়. দেখতে দেখতে ৬মাশ কেটেও গেল.তখন হোলির সময়.মেস এ প্রায় কেউএ নেই.সুধু আমি র আমার বেস্ট ফ্রেন্ড.অর সাথে যুক্তি করলাম,gf কে মেস এ নিয়ে এসব,সুযোগ পেলে চুদবো আর ও পাহারা দেবে যাতে কেউ হটাথ এসে দেখে না ফেলে. প্লান মত আমার gf এসে হাজির হলো ঠিক সকাল 10.30 টা.একটা tight jeans আর top পরে .jeans টা গুদের কাছে এমন ভাবে চেপে বসেছিল যে গুদটা ফুলে আছে মনে হছিল .মেস এ আমার single room ছিল ,সিড়ির ঘর .

যখানে এমনেই সচরাচর কেউ যেত না খুব একটা .নিয়ে গেলাম আমার ঘরে .ও আমার ঘরে ঢুকতেই দরজা টা বন্ধ করে দিয়ে অর পাসে গিয়ে বসলাম ,একথা অকথা বলার ফাকে ফাকে অর উরু তে হাথ বলাছিলাম আর ও আমার কাঁধে মাথা দিয়ে বসে ছিল.আসতে আসতে ওর মুখ টা তুলে কিস করলম .ও রেসপন্সে করলো .আমক জড়িয়ে ধরে kiss করতে সুরু করলো আর আমি ওর 36 sizer দাব্কা মাই গুলো খেলতে লাগলাম .দেখলাম কিছু বলল না .আমার সাহস বেড়ে গেল .ওর টপ এর বোতাম গুলো খুলে দিয়ে ওর ঘরে কিস করতে লাগলাম ,বুঝলাম ও বাপার টা বেস উপভোগ করছে .জড়িয়ে ধরে ওকে বিছানায় সুইয়ে দিয়ে top টা খুলতেই ওর দাব্কা মাই গুলো চোখের সামনে বেরিয়ে এলো .ভিতরে সুন্দর designer বরা পরেছিল একখানা কালো রঙের ,nipple টা বাদ দিয়ে প্রায় পুরো মাই তাই বেরিয়ে ছিল .Kiss করতে করতে মাই গুলো পালা করে চটকাতে লাগলাম .তারপর ওর ঘরে গলায় কিস করতে করতে নিচে নামতে থাকলাম .ওর গায়ের গন্ধটা odvut রকম মিষ্টি ছিল .পাগল করা ..ওর মাইয়ের চারধারে kiss করতে লাগলাম আর একটা মাই আলতো করে টিপতে লাগলাম ,তারপর পালা করে মাই গুলো চুষতে সুরু করলাম আর ও মুখ দিয়ে আআহ ..উঅঃ ..আআঃ…সব্দ করতে লাগলো খুব আসতে আসতে .বুঝলাম মাগী line এ এসেছে ..যা করার এখনি করতে হবে তারউপর মেসে হটাথ কেউ চলে এলেও বিপদ .. এমন সময় ছন্দপতন ..Table এর উপর রাখা আমার ফোন টা হটাথ বেজে ওঠে খুব বিরক্ত লাগলো .

phone টা তুলে দেখি মেসের মালিক .বলল আর কিছুক্ষণের মধ্যেই মেসে আসছে কি একটা দরকারে ..আমার চোদার সপ্ন মাথায় উঠলো .তারাতারি করে উঠে দুজনে ঠিকঠাক হলাম আর মেস থেকে ওকে নিয়ে বেরিয়ে গেলাম .. পরে একদিন দেখা করতে গিয়ে plan করলাম বোলপুর যাব বেড়াতে .একরাত থেকে পরের দিন যে যার বাড়ি ফিরেজাব .সেই মত এক রবিবার আমরা বোলপুর এর উদ্দেস্সে রওনা হলাম .station এ নেমে এক রিক্সব বলার কাছে ভালো হোটেলের খোঁজ করতেই সে নিয়ে গেল একটা 3star হোটেল এ .double bed এর একটা room ভাড়া করলম.হোটেল এ স্বামী স্ত্রীর পরিচয় দিয়ে .কোনো অসুবিধা হলনা .রুমে ঢুকে বেস পছন্দও হয়েগেল রুম টা দুজনেরে . দরজা বন্ধ করে সবে বিছানায় সুয়ে একটু rest নিছি চোখ টা বুজে .চোখ খুলে একবার আয়নার দিকে তাকাতেই দেখি আমার sexy ডাবকা মাগীটা salwar এর উপর টা খুলে বরা পরে দাড়িয়ে আছে আর পান্ট টা খুলছে ..সুয়ে সুয়ে সেই দৃসস দেখতে লাগলাম .একসময় সুধু কালো রঙের একটা bra আর কালো panty পরে সে বাগ গোছাতে সুরু করলো .দেখতে দেখতে এর মধ্যেই ধন খাড়া হয়ে পান্টের মধ্যে ফুঁসছে ..উঠে গিয়ে পিছন থেকে জড়িয়ে ধরে মাই গুলো চটকাতে লাগলাম আর ঘারে kiss করতে লাগলাম ..জীবনে এত নরম কোনো জিনিস হাথের মুঠোয় এসেছে বলে মনেপর্লনা ..ইচ্ছা করছিল তখনে একবার চুদে নেই কিন্তু মাগী ঘুরে আমাক জড়িয়ে ধরে কিছুক্ষন kiss করার পর বলল ..”এখন না plz.সারাদিন তো পরেই আছে .এখন একটু ফ্রেশ হয়েনেই ?? ”..ভাবলাম যুক্তি টা ভুল না ..সারাদিনে পরে আছে ..এখন থেকে energy নষ্ট করে লাভ নেই .ও bathroom এ গেল fresh হতে ,আমিও চাঙ্গে করে নিলাম .bathroom থেকে যখন বেরোলো সেও এক দৃসস …একটা পাতলা nighty পরে ,ভিতর এ আর কিছুই নেই ..দুধ ,গুদ ,পাছা সবে দেখাজাচ্য়ে ..মনেমনে ভাবলাম মাগী আজ তর কপালে কষ্ট আছে .এত সরির দেখানো তর বের্কর্চি ..এই ভাবতে ভাবতে দুধ দুটো ধরে একবার চটকে দিয়ে bathroom গিয়ে fresh হয়ে এলাম .অনেকটা বেলাও হয়ে গিয়েছিল .খাবারের order দিলাম ,room service, room এ এসে খাবার দিয়ে গেল .

খেয়ে উঠে দুজনে সুয়ে সুয়ে গল্প করতে থাকলাম ..হটাথ দেখি মাগী আমার bermudar উপর দিয়ে আমার ধন টা হাথাতে সুরু করেছে ..ঠিক আরাম পাচিল্লাম না ..তাই ওর হাথ টা নিয়ে bermudar ভিতর ঢুকিয়ে দিলাম ..নরম হাথের ছোয়া পেয়ে আমার বার ততক্ষনে খাড়া হতে সুরু করে দিয়েছে ..হটাথ মনেহলো মাগির সেক্ষ্য ঠোঁট গুলো দিয়ে একবার বাড়া টা চুসিয়ে নিলে মন্দ হয়না ..বললাম “এই একটু চুসে দাও না গো ..”কিছুতেই রাজি হবেনা ..আর আমিও ছাড়বনা ..সেসবধি অনেক কষ্টে রাজি করলাম ..আমার Bermuda টা খুলে ওর মুখের কাছে আমার বাড়া টা এগিয়ে দিলাম ..আসতে আসতে চুষতে সুরু কল ..আআআঃ ..সে কি আরাম বলে বোঝানো যাবেনা ..মুখের ভিতর টা গরম আর জিভের চাটন খেয়ে বাড়া টা রীতিমত ফুসতে সুরু করেছে তখন ..ওর nightyr ভিতর এ এমনেই কিছু ছিল না ..হাথ ঢুকিয়ে গুদ টা স্পর্স করতেই দেখি পুরো ভিজে জব জব করছে …আর একদম পরিস্কার করে কমানো গুদ .অত সুন্দর জিনিসটা দেখার লোভ সামলাতে পারলাম না .

nighty টা কমর অবধি তুলে দিয়ে ওকে আমার উপরে নিয়ে নিলাম আর গুদে নাক টা দিয়ে সুন্কতে লাগলাম ..উঅঃ… কি অপূর্ব গন্ধ ,জিভ দিয়ে লিক করতে সুরু করলাম .মাগী দেখলাম পুরো horny হয়েগেছে ..মুখে আমার বাড়া টা নিয়ে ঊঊউহ্হ …আআআঃ ..হমমম ..ওই খান টা ..এসব বলতে সুরু করলো আর আরো জোরে জোরে আমার বাড়া টা suck করতে লাগলো ..গুদ টা হাথে করে ফাক করে ওর যোনি তে জিভ টা সরু করে ঢুকিয়ে দিলাম ..আর ও আআআআঅহ্হ ..করে উঠলো আর গুদ টা আমার মুখের উপর আরো চেপে ধরল ..এদিকে আমিও অনেক দিন পর কোনো মাগিক দিয়ে বাড়া চসাছি তাই বেশিক্ষণ মাল ধরে রাখতে পারবনা বুঝলাম ..minute 2-৩এক গুদ টা চেতে position change করে নিলাম .. ওকে নিচে সুইয়ে একটা মাই মুখে ভরে nipple টা চুষতে লাগলাম আর একটা চটকাতে লাগলাম পালা করে ..আর ও আমার থাটানো বাড়া টা নিয়ে ওর গুদ এ ঘসতে লাগলো ..কিছুক্ষণ পরে নিজেই বলল “এবার কর plz..আমি আর পারছিনা ..”আমি উঠে বসে অর কোমরের নিচে একটা বলিস দিয়ে গুদ তাক একটু উঁচু করে দিলাম আর পা দুটো আমার কাঁধে নিয়ে গুদ এর মুখে বাড়া তা রেখে ঘসতে লাগলাম কিন্তু ঢোকালাম না ..এতে ও আরো horny হয়েগেল ..দেখলাম অর গুদ দিয়ে রস গড়িয়ে পরছে আর ও আমাক বলতে লাগলো “plz ঢোকাও ..আর পারছিনা ..plz”..বুঝলাম আর কষ্ট দেওয়া ঠিক হবেনা ..গুদের মুখে বাড়া তা সেট করে আসতে করে একটা ঠাপ মারতেই পিছিল গুদ এ বাড়ার মাথাটা ঢুকে গেল আর ও আআআআআঅহ্হ ..আসতে করো ..বলে সিতকার করে উঠলো .দেখলাম এ তো মহা বিপদ এই ভাবে চিত্কার করলে তো হোটেলের সবাই সুনতে পাবে ..!! তাই ঝুঁকে পরে অর ঠোঁটে ঠোঁট ডুবিয়ে দিলাম আর আসতে আসতে ঠাপ মারতে লাগলাম ..পুরো বাড়া তা ওর গুদে চালান করে দিলাম ..গুদের ভিতর টা যেমন গরম সেরকম tight..মনেহলো বাড়া টা পুরেই যাবে ..বেস আরাম পাচিল্ল্ম এরকম একটা tight গুদ এ বাড়া ঢুকিয়ে ..

গুদ এ বাড়া ঢুকিয়ে রেখেই ওর উপর সুয়ে ওকে kiss করতে লাগলাম ..দেখলাম মাগির তর সইছেনা ..নিচের থেকে তল ঠাপ দিতে সুরু করেছে ..আমিও সুরু করলম ঠাপ মারা ..মাগী গুদের দেয়াল দিয়ে আমার বাড়া টা চেপে চেপে ধরছিল.ঠোঁট থেকে ঠোঁট তুলতেই ও মমমমমমম …আআআআহঃ ..ঊঊঊওহ্হ্হ ..রেকটু জোরে ..এরকম না না কথা বলতে সুরু করলো .আমার তখন মাথায় মাল উঠে গেছে ..minute 5 টানা ঠাপানোর পর গুদ থক বারতা বার করে নিয়ে ওকে বললাম doggy pose এ করব ..সঙ্গে সঙ্গে রাজি ..উপর হয়ে সুয়ে গাঁড় টা উঁচিয়ে দিল আমার সামনে ..এরমধ্যে দেখলাম একবার জল ও খসিয়েছে ..কারণ বালিশ চাদর ভিজে গেছে ..যাইহোক আর দেরী না এক ঠাপ মেরে গোটা বাড়া টা ওর গুদে ভরে দিতেই ..ঊঊঊওক করে উঠলো ..বুঝলাম একটু বেসেই জোরে হয়েগেছে ..মাগির কমর টা ধরে ঠাপ মারতে থাকলাম ..দেখলাম মাগির জল খসানোর time হয়েগেছে আবার ..বিছানার চাদর খামচে ধরে ..ঊঊঊউহ্হ্হ্হ ..আআআআহঃ …মমমমম …মাআগ ..করে চিত্কার করে জল খসিয়ে দিল ..আরো 5-7ta ঠাপের পর আমিও ওর গুদের মধ্যেই মাল ছেড়ে দিলাম ..চোখে সরসে ফুল দেখার মত অবস্থা হলো ..বারতা গুদে রেখেই ওর উপর ক্লান্ত হয়ে সুয়ে পরলাম ..কতক্ষন সুয়েচিলাম জানিনা ..যখন ঘুম ভাঙ্গলো তখন বিকাল হয়েগ্ছে ..দুজন একসাথেই বাথরুম গিয়ে ফ্রেশ হয়ে নিলাম ..তারপর চা খেয়ে বেরিয়ে পরলাম ঘুরতে .. সেদিন মাগীকে আরো দুবার চুদেচিলাম রাত এ ..সেই গল্প আবার পরে একদিন বলব .. কেমন লাগলো জানাবেন ..আপনাদের মতামতের অপেক্ষায় রইলাম ..

मेरी कुवारी चूत के हसीं सपने

प्रिय पाठको, मैं कनक २१ साल की हूँ मै मुंबई के  घाटकोपर में रहती हूँ। जब मैं ५ कक्षा में थी तो मेरी माँ ने मुझे पुने पढ़ने भेज दिया। ११ तक तो मैंने वहीं पढाई की लेकिन जब मैं १२ में पहुँची तो मेरे साथ एक अजीब घटना घट गई। आज मैं आप सबको वही घटना बताने वाली हूँ।
पुने में हमारा अपना एक छोटा सा घर था। मम्मी-पापा मुंबई में रहते थे तो पुने का घर खाली पड़ा था। ग्यारहवीं तक मैं हॉस्टल में थी लेकिन बारहवीं में जाने के बाद मैं अपने घर में रहने लगी। मैं खूबसूरत हूँ, कोई भी लड़का मुझे देख कर आह भरे बिना नहीं रह सकता, उस पर 32-25-32 की 18 साल की जवानी भी थी। मैं नए ज़माने की लड़की थी इसलिए कपड़े भी सेक्सी पहनती थी। मेरे घर के सामने एक और घर था उसमें चार लड़के रहते थे वो एक साथ बी.ए तृतीय में पढ़ते थे, उम्र में वो मुझसे लगभग चार साल बड़े थे।
जिस दिन से मैं अपने घर में रहने आई, उनकी नज़र मुझ पर रहती थी। मेरे घर के सामने एक बरामदा था जिसमें कुर्सी लगी थी। मैं अकसर शाम के समय वहाँ बैठ कर पढ़ती थी। घर में कोई और तो था नहीं, सिर्फ एक खाना बनाने वाली थी, समय से आती खाना बना कर और सफाई करके चली जाती।
एक दिन मैं स्कूल से घर आई तो देखा कि चार में से एक अपने घर के बाहर खड़ा होकर मेरे घर की तरफ देख रहा है। मैं उसका इरादा समझ गई। जवानी मेरी भी काबू में नहीं थी, घर में आकर मैं शीशे के सामने खड़ी हो गई और खुद को देखने लगी। मैंने जानबूझ कर दरवाजा खुला छोड़ दिया ताकि वो मुझे देख सके।
मैंने अलमारी से अपने लिए काले रंग की सिल्क की ब्रा और पैंटी निकली और फिर शीशे के सामने आ गई। वो अब भी लगातार मेरे कमरे में देख रहा था, शीशे में मुझे वो दिख रहा था।
मैंने अपने शर्ट के बटन खोल दिए और धीरे से उसे अपने शरीर से अलग किया। वो देख कर थोड़ा सजग हो गया, उसने अंदर से अपने तीनों दोस्तों को भी बुला लिया।
मैं स्कूल ड्रेस के नीचे ब्रा और पैँटी नहीं पहनती थी। मैंने पहले पैंटी पहनी और फिर स्कर्ट भी उतार दिया अब वो चारो मुझे पीछे से केवल पैंटी में देख रहे थे। फिर मैंने ब्रा पहनी और उसी तरह घूम कर शीशे की तरफ पीठ करके अपना हुक बंद किया। मेरी चूचियाँ और चिकनी नाभि देख कर वो चारों वासना के सागर में गोते लगाने लगे।
फिर मैंने अलमारी में से एक नीली स्कर्ट और गुलाबी टॉप निकाली और वापिस शीशे के सामने आ कर मैंने स्कर्ट पहना जो घुटने के कुछ ऊपर तक ही था। फिर टॉप जो चूचियों के कारण नाभि के ऊपर ही अटक जाता था। फिर मैं घूम के दरवाजे तक आई और ऐसा दिखाया कि मैंने उन्हें देखा ही नहीं।
थोड़ी देर बाद मैं किताब ले कर बाहर कुर्सी पर बैठ गई वो चारों अब भी वहीं थे, मेरी गोरी टांगें और चूचियाँ देख देख कर पागल हुए जा रहे थे। दोस्तों आप यह कहानी मस्ताराम.नेट पर पढ़ रहे है |

तभी खाना बनाने वाली आ गई, लगभग डेढ़ घंटे तक वो घर में रही, खाना बनाया और फिर बाहर आकर बोली- मैंने खाना बना दिया है, खा लेना ! अब मैं जाऊँ?
मैंने कहा- ठीक है, जाओ !
अब मैं निश्चिंत थी। मेरे दिमाग में घूम रहा था कि मैं कैसे उनमें से किसी एक को कमरे में बुलाऊँ !
तो मैं थोड़ी देर बाद खुद ही उनके कमरे के तरफ चल पड़ी। वहाँ पहुँच कर मैंने उनमें से एक से कहा- सुनिए !
वो मेरी तरफ देखने लगा। उन्हें डर लगने लगा कि कहीं मैंने उन्हें देख तो नहीं लिया।
तभी मैंने कहा- जी मुझे एक सवाल नहीं आ रहा ! अगर आप में से कोई बता दे तो ?
मेरा इतना कहना था कि चारों एकदम खुश हो गए, लेकिन उनमें से एक धीरज मेरे साथ मेरे कमरे में आया। दरवाजे से अंदर आते ही उसने कहा- आप यहाँ अकेली रहती हैं क्या ? दोस्तों आप यह कहानी मस्ताराम.नेट पर पढ़ रहे है |
मैंने कहा- हाँ ! क्यों ?
वो कहने लगा- नहीं, आप लड़की हैं और अकेली ?
मैंने दूरी कम करने के लिहाज से कहा- पहले तो आप मुझे आप नहीं कहेंगे क्योंकि मैं आप से छोटी हूँ ! और मैं छटी कक्षा से घर से बाहर रह रही हूँ इसलिए अब आदत हो गई है।
मैं उसे सीधे अपने सोने के कमरे की तरफ ले गई बिस्तर की तरफ इशारा किया और कहा- बैठिये !
और किताब ले आई। मैं उसके सामने पैर पर पैर चढ़ा कर बैठ गई। उसकी नजर मेरी गोरी टांगों पर थी। मैं समझ रही थी।
मैंने थोड़ा और नजदीक आकर पूछा- आप चारों एक साथ रहते हैं?
उसने कहा- हाँ !
उसकी नजर अब भी मेरी टांगों पर थी। फिर मैंने किताब का पन्ना पलट कर एक सवाल उसके सामने रख दिया। वो तेज था, उसने तुरंत सवाल हल कर दिया।
मैंने खुश होते हुए कहा- धन्यवाद, आपने मुझे कल टेस्ट में फ़ेल होने से बचा लिया ! अगर बुरा न माने तो क्या आप लोग आज रात का खाना मेरे साथ खाना पसंद करेंगे?
एक लड़की का सीधा आमंत्रण पा कर कोई जवान लड़का मना कैसे करता ! उसने कहा- लेकिन आपको तकलीफ होगी | दोस्तों आप यह कहानी मस्ताराम.नेट पर पढ़ रहे है |
मैंने कहा- तकलीफ कैसी? नौकरानी खाना बना कर गई है। अपने मेरी इतनी मदद की है तो यह तो मेरा फ़र्ज़ है !
फिर उसने हाँ में सर हिला दिया। फिर वो बाहर की तरफ चल पड़ा। मैं उसे छोड़ने दरवाजे तक आई और जाते जाते उससे कहा- भूलिएगा मत ! ठीक नौ बजे !
उसने कहा- ठीक है !
मेरा मन जैसे झूम उठा, मेरी सहेलियाँ मुझे उनकी चुदाई की कहानियाँ बताती थी, मेरा भी मन करता था कि मेरे पास भी काश मुझे भी कोई चोदने वाला होता ! अब तक मैं बिलकुल कुँवारी थी, किसी ने हाथ भी नहीं लगाया था। लेकिन

आज मेरी कुँवारी बुर हसीन सपने देख रही थी।

मैं बाथरूम गई और अपनी बुर को अच्छी तरह से साफ किया और उससे कहा- बस मेरी सहेली, आज तेरा इंतजार खत्म ! आज मैंने तेरे लिए चार-चार लौड़ों का इंतजाम किया है !
फिर मैं तैयार हो कर बाहर आकर कुर्सी पर बैठ गई और नौ बजने का इंतजार करने लगी। ठीक नौ बजे वो चारों घर से निकले, मैंने उन्हें घर से निकलते देख लिया था इसलिए मैं सोने का नाटक करने लगी।
वो चारों आये और मुझे सोता देख कर चुपचाप मेरे आसपास खड़े हो गए। नियत तो उनकी खराब थी लेकिन कुछ करने की हिम्मत नहीं हो रही थी।
कहानी जारी है …. आगे की कहानी पढने के लिए निचे दिए गए पेज नंबर पर क्लिक करे |

The post मेरी कुवारी चूत के हसीं सपने appeared first on Mastaram.Net.

Marathi Sex Stories प्रथम संभोग

Marathi Sex Stories मी आणि नयना ह्यांना सायन्स टीचर ने काहीतरी प्रोजेक्ट करण्यासाठी ल्याब मध्ये एकत्र ठेवले होते. आणि दोघेही ह्या गोष्टीनी खुश झालो होतो. त्या दिवसी पासून आणि दोघे एकत्र सगळीकडे हिंडत असू. आणि काही स्याम्प्ल्स एकत्र करत असू. ह्या मुळे आम्हाला एकत्र होण्याची संधी होती. आणि आम्ही दोघे खुप छान मित्र झालो. जेव्हा आम्हाल संधी मिळत असे. तेव्हा आम्ही एकमेकांच्या शरीरासोबत खेळत असू. ti खूप गरम मुलगी होती आणि थोडी गुबगुबीत होती.
मग स्याम्पाल शोधात असताना मी तिला एकांत ठिकाणी नेत असे. आणि तिच्या बुब्स ना कीस करत ते दाबत असे. मी तिला खूप वेळा उत्तेजित करव्याचा प्रयत्न करत असे आणि तिच्या पुसीवर कपड्या वरूनच दाबत असे. मग मी मजाह लंड हातात घेवून तिला दाखवत असे. तिने ह्याच्याआधी कधीच संभोग केला न्हवता. परंतु मला माझ्या घरातील कामवाली सोबत ह्या गोष्टीच अनुभव होता. कामवाली माझा लंड चोखून मला मजा देता असे. जेव्हा जेव्हा ती वरील भाग स्वच्ह करावयास येत असे.
मग काहीच दिवसात नयना ने संभोग करावयाची इच्छा दाखविली. परंतु कोठे करावा हा मोठा प्रश्न होता. मग शेवटी आम्ही सायन्स लाब मध्ये करावयाचा ठरविला. आम्ही टीचर ना कसतरी पटविले आणि लाब ची चावी घेतली आणि ज्या दिवशी सुट्टी होती त्या दिवशी तिथे चाललो गेलो. आम्ही जेव्हा दरवाजा उघडला तेव्हा सेकुरीती आला आणि त्यांनी आम्हाल विचारले आम्ही काय करत आहोत. मग थोडा वेळ आमच्या सोबत बोलल्यावर तो चालला गेला. मग आत गेल्यावर रूम मध्ये खूप अंधार होता. मग आम्ही डार्क रूम मध्ये गेलो आणि एकमेकांना मिठी मारावयास सुरुवात केली. आणि आमच्या शरीरासोबत खेळावयास सुधा. मी तिचा टी. शर्ट उचलला आणि तिचे बुब्स पहिल्यांदाच पहिले. मग मी जेव्हा त्यांना स्पर्श केला तेव्हा मला जाणविले ते आधीच कडक होवून गलेले होते. मग मी त्यांना हातात घेतले आणि त्यांना खूप जोरात पीळू लागलो.
तिचं सोबत चोदाव्याची माझी इच्छा मला अजून गरम करत होती. मग मी मजाह लंड बाहेर काढला आणि तीअला दाखविला. तिला पहिल्यांदा कसेतरी वाटले पण मी जबरदस्तीने तिला त्याला हातात दिले. ती प्रथम नाही म्हणत होती परंतु मग ती आनदाने तयार झाली आणि तिला त्या मध्ये गम्मत येवू लागली. मग तितक्यात मी माझा हात तिचं पन्ति मध्ये घातला आणि तिच्या पुसी मध्ये बोट घालू लागलो. ती आधीच ओली झाली होती आणि मी तिच्या पुसी मध्ये बोट घातली आणि तिला अजून जोरात मिठी मारली. मी तिला मस्त फिरविले आणि तिला डॉगी स्टाईल मध्ये उभे केले. जेव्हा ती उलटी उभी राहिली तेव्हा मी तिची पन्ति काढली. तिची गांड मस्त शेप मध्ये होती. आणि खुप आकर्षित करणारी होती.
जेव्हा मी मागून पाहत होतो. मग मी हळूच लंड तिच्या गांदीच्या मध्ये चोळला. मग मी जेव्हा हे हळूच करत होतो. मला हे सर्व खुप सोपे झाले. मग मी माझा लंड आत मध्ये जोरात घातला आणि तिची पुसी बरीच घट्ट होती. परंतु मी तसाच जोरात त्याला दाबला. मग तो हळू हळू आत जात होता. मी तील एक जोरात पुश दिला, आणि मग माझा लंड पूर्णपणे आत गेला. मला खुप ओलावा जाणविला, ,मग मी माझा लंड बाहेर काढला आणि मला हे लक्षात आले कि ती एकदम कोरी होती. ती वेदनेने ओरडली आणि तिला ते परत हवे होते. मग तिने स्वताची पुसी स्वच केली आणि मग मी परत तिला डॉगी स्टाईल मध्ये चोद्ले. मग मी तिच्या गांडीचं बाहेर लंड काढला. आज जरी मला ती घटना आठविली तरी मला वेगळेच वाटते.

The post Marathi Sex Stories प्रथम संभोग appeared first on Marathi Sex.

মার দুধের উপর মাল ঢেলে দিলাম

বয়স্ক মহিলাদের চুদতে আমার ভালো লাগে। এক দিন ছুটিতে বাড়ী এসে হোটেলে গিয়েছিলাম মাগী চুদতে সেখানকার সেই চোদার ঘটনা আপনাদের সাথে শেয়ার করবো আজ। আমার নাম অরুন, থাকি বারাসাতে আমার বাবা মারাযান ৫ বছর আগে। আমরা এক ভাই এক বোন্. আমি বড়. আমার বর্তমান বয়স ২৪. বোনের বয়স ১৪. আমার মায়ের বয়স ৪৪. বাবা মারা যাওয়ার পর আমাদের খুব অসুবিধা হয়. মা তখন আয়ার কাজ শুরু করলেন, তাতে আমাদের সংসার চলত. আমি টিউশানি করে পড়াশুনা চালাতে লাগলাম.এই জানুয়ারিতে আমি চাকরি পাই. মা আমাদের জন্য অনেক কষ্ট করেছেন. যা হোক চাকরি পাওয়ার পর.মায়ের মুখে হাঁসি ফুটেছে. ১ সপ্তাহের ছুটি নিয়ে বাড়িতে এসেছি. এসে দেখি মা এখনো আয়ার কাজ করছেন. আমি অনেক বকাঝকা করতে বলল এই মাসের বেতন পেলে কাজ ছেড়ে দেব. আমি বললাম ঠিক আছে মা.

বোনটা ক্লাস নাইন-এ পড়ে.দুদিন হলো বাড়ি এসেছি . মনটা চঞ্চল ছিল কিছু একটা করার জন্য. ল্যাপটপ এ নেট ঘেটে কয়েকটা নম্বর নিয়ে ফোনে কথা বললাম দালালের সাথে. এখনে একটু বলে নেই আমি সাধারণত বয়স্ক মহিলা লাইক করি. তাই কোনো দালালি তেমন ৪৫ থেকে৫০ বয়সের মালের সন্ধান দিতে পারলনা. মনটা খারাপ হয়ে গেল।

সন্ধ্যা ৬ টা নাগাত এক দালাল ফোনে করে বলল ৪৪/৪৫ বয়সের একজন পাওয়া গেছে রাত ১০ টায় পাওয়া যাবে. পুরো রাতের জন্য ২০০০ ও হোটেল বিল আলাদা. আমি বললাম ঠিক আছে..আমি মা কে বললাম মা আমি একটু বেহালা যাব বন্ধুর বাড়ি আজ ফিরবনা ওখানে থাকব কাল বাড়ি আসব. মা বলল কি বলিস আমারতো আজ নাইট ডিউটি আছে. আমি জিগেস করলাম কোথায় মা বলল অফিসে গেলে জানতে পারব কোন নার্সিং হোম দেয়. আমি বললাম তবে আমি বেরিয়ে পড়লাম. মা বলল চল একসাথে যাই আমরা ৮ টার ট্রেন ধরে শিয়ালদা গেলাম. আমি বাস ধরব বলে গেলাম মা অনার অফিস গেল. আমি কিছুদুর গিয়ে দালাল কে ফোনে করলাম. দালাল বলল আপনি কেষ্টপুর চলে আসেন. আমি ট্যাক্সি ধরে কেষ্ট পুর চলে গেলাম. দালাল আমাকে নিয়ে হোটেলে গেলেন. আমায় তিন তলায় ৪০৩ রুমে যেতে বললেন. আমি গেলাম. তখন ১০ টা ২০ বাজে. হোটেলের বয় বলল বসেন উনি আসছেন. প্রায় ৩০ মিনিট কারো কোনো দেখা নেই . এর মধেই দালাল আসলো এবং বলল দিন ৫০০০ টাকা. আমি দিলাম. দালাল বলল কাকিমা আসছেন. আমি টেনসন করছিলাম . দালাল বলল যাও কাকিমা উনি রুমে আছেন. আমি ভেতর থেকে এই কথা শুনলাম.আমি খাটের উপর বসা. বেল বেজে উঠলো. আমি দরজা খুলাম. মহিলা ভেতরে ঢুকে পড়লেন. আমি সাথে সাথে দরজা বন্ধ করে দিলাম.

আমি ফিরে তাকাতে বললাম তুমি অমনি মা আমার মুখ চেপে ধরলেন আর বললেন চুপ চুপ .আমি আর কোনো কথা বললাম না. কিছুক্ষণ চুপ থাকার পর দেখি মার চোখ দিয়ে জল গড়িয়ে পরছে. আমার মুখে কোনো ভাষা নেই. কোনো কথা নেই. প্রায় সরে 11 টা বাজে.আমার শরীর কেমন ঠান্ডা হয়ে গেছে. মা আমার হাত ধরে খাটে বসতে বলল এবং বলল তুই এখানে কেন এলি. আমি কোনো উত্তর দিলাম না. মা বলতে লাগলো আমি সেচ্ছায় এখানে আসিনি তোদের বাঁচাতে এই কাজে নামতে হয়েছে. আমায় মাফ করে দে . আমি মার হাত ধরে বললাম আর কিছু বলতে হবেনা আমি সব বুঝি আমাকে নিয়ে তোমাকে কোনো টেনসন নিতে হবেনা. মা বলল ওদের কত টাকা দিয়েছিস আমি বললাম মোট ৫০০০ টাকা. মা বলল আমায় দিয়েছে মাত্র ১৫০০ বাকিটা ওরা নিয়েগাছে. আমি বললাম বাদ দাও ও নিয়ে ভাবতে হবেনা .মা আমার হাত ধরে আবার বলল আমায় ক্ষমা করে দিয়েছিস বল. আমি বললাম হ্যা. আচ্ছা তুমি এই কাজ কতদিন ধরে করছ. মা বলল গত তিন বছর ধরে. আমি কেঁদে ফেললাম. মা আমার চোখ মুছিয়ে দিল. দেখতে দেখতে রাত ১ টা বেজে গেল. আমি বললাম এবার চলো বাড়ি যাই. মা বলল ৫ টার আগে বের হওয়া যাবেনা. পুলিশ ধরবে. মা হঠাত বলল তর এমন রুচি কেন হলো. আমি বললাম জানিনা আমার সবসময় বয়স্ক ভালো লাগে. মা একটু হাঁসলো এবং বলল তর সব মাটি হয়ে গেল. আমি বললাম হুম. আর ঘড়ি দেখছি . মা বলল ক’টা বাজে . আমি বললাম ২ টা বাজে . মা বলল কি ভাবছিস. আমি বললাম কিছুনা. মা বলল তুই খুব চিন্তা করছিস. আমি বললাম কই না তো, তুমি কি ভাবছ . মা বলল না ভাছিলাম তর জায়গায় অন্য কেউ হলে আমায় এতখনে চিরে খেত. আমি বললাম কি ? মা বলল হুম . আমি একটা দীর্ঘ নিশ্স্বাস দিলাম. মা বলল কিরে ইচ্ছা করছে নাকি. আমি বললাম কি ইচ্ছা করবে . মা বলল থাক আর 2.3 মিনিট তারপর বাড়ি যাব .আমি মার হাত ধরলাম মা অমনি মাথা নিচু করলো. আমি বললাম মা ……… মা বলল কি . আমার ইচ্ছা করছে . মা বলল কি ইস্ছা করছে . আমি বললাম যার জন্য এখানে এসেছিলাম. মা বলল আমি টাকা নিয়েছি না করতে পারবনা তুমি চাইলে করতে পারিস .

আমি বললাম আমাকে মন থেকে দিলে তবেই আমি করব. মা আমায় জড়িয়ে ধরে বলল আমাকে ছুড়ে ফেলেদিবিনাত. আমি বললাম মা তুমি আমার মা ও কথা কেন বলছ. তুমি না দিলেও কোনো দিন তোমার ছেলের কাছ থেকে ওটা আশা করবা না. মা আমার জড়িয়ে ধরে বলল মা ছেলে কি করে হয়, তুই আমার পেটের ছেলে তোর্ সাথে কি করে করি.আমি বললাম আজ কাল মা ছেলে অনেকেই করে আমি নেটে অনেকই দেখেছি মা বলল সত্যি বলছিস. আমি বললাম হ্যা, মা বলল তুই সত্যি আমায় চাস. আমি বললাম হ্যা . মা বলল লাইট বন্ধ করে দে. আমি বললাম কেন? মা বলল আলোতে আমি পারবনা আমার লজ্যা করে. আমি মাকে জাপটে ধরে ঠোঁটে চুমু খেলাম মা ও আমার চুমুতে সারা দিল.আমি মার মাইতে হাত দিতে মা বলল দ্বারা খুলে দেই, মা একে একে শারী ও ব্লাউস খুলে দিল , ব্রাতে মাই দুটো খুব খাঁড়া লাগছে ধরে পক পক করে টিপতে লাগলাম . আমি পান্টের ভেতর জাঙ্গিয়া পড়ি নাই. আমার বাঁড়া একদম খাঁড়া হয়ে দাড়িয়ে ঠেলে বেরিয়ে আসবে মনে হয়. আমি মার ব্রা খুলে দিলাম. ওহ কি অপরূপ সুন্দর আমার মায়ের দুধ, মুখে নিয়ে চুষতে লাগলাম, মা আমার প্যান্টের উপর দিয়ে বাঁড়া খপ করে ধরে বলল বাবা একি হয়েছে বিশাল শক্ত হয়ে আছে. আমি মায়ের পেটিকোট খুলে দিলাম মা কোমর থেকে বের করে দিল উম আহ মায়ের গুদের বাল কামানো আমি মুখ গুজে দিলাম চুক চুক করে চুষতে লাগলাম চেটে দিতে লাগলাম, মা বলল আমাকে উলঙ্গ করে নিজে সব পরে আছে. আমি পটাপট জামা ও প্যান্ট খুলে ফেললাম. মা আমার বাঁড়া দেখে বলল একি রে এত বড় ওরে বাবা আমি নিতে পারব কি ?

আমি বললাম মা সত্যি আমার তা বড়. মা বলল হুম. আমি মাকে বললাম এবার ঢুকাবো. মা বলল জানিনা আমি খাঁটে উঠতে মা দুপা ছাড়িয়ে চিত হয়ে শুয়ে পড়ল আমি মার দু পায়ের মাঝে হাটু গেড়ে বসে বাঁড়া ধরে মার গুদে সেট করে ঢুকিয়ে দিলাম. মার গুদ রসে জব জব করছিল ঢোকাতে কোনো কষ্ট হয় নি . কয়েকটা ঠাপ দিয়ে মায়ের বুকে চেপে বললাম মা ঠিক আছে . মা বলল হুম. আমি বললাম তুমি বললে ঢোকাতে কষ্ট হবে কিন্তু কই. মা বলল আমি টের পেয়েছি, কত বড় টা ঢুকলো. আমি বললাম তোমার ভালো লাগছে, মা বলল হুম খুব ভালো.আমি মায়ের মুখে মুখ দিয়ে ঠোঁট চুষতে চুষতে চুদতে লাগলাম. ঘপাঘপ ঠাপাতে লাগলাম.মা বলল কত বড় তোরটা. আমি বললাম তোমার কষ্ট হচ্ছে কি মা. মা বলল না রে ভালই লাগছে জোরে জোরে কর. আমি মাকে জোরে জড়িয়ে ধরে পক পক গাদন দিতে দিতে বললাম মা গো আমি সুখে পাগল হয়ই যাব গো মা ওমা ধর এবার ঢালবো তোমার গুদে আমার ফ্যাদা ।

মা বলল না রে ভিতরে দিস না বাবা বাইরে ফেল না হলে কেলেঙ্কারী হয়ে যাবে. আমি বললাম কিসের কেলেঙ্কারী হবে . মা বলল যদি বাছা এসে যায়. আমি ঠাপের গতি বাড়িয়ে দিলাম. মা আমায় জাপটে ধরে বলল জোর জোরে দে উহ কি সুখ দিছিস আমি পাগল হয়ে যাব দে দে আরো দে উম মাগো আউচ………… আহ: উহ: আ অ গেল রে গেল আমার হয়ে গেল আহ্ছ্ছ্হঃ . আমি আরো চোদনের গতি বাড়ালাম ঠাপের তালে মা কাপছে আহ মা আমার বের হবে উহ্হঃ আহ্হঃ বলে ফচাত করে বাঁড়া বের করে মার দুধের উপর মাল ঢেলে দিলাম আহ্ছ্ছঃ কি সুখ পেলাম বলে বোঝাতে পারবনা. পরম তৃপ্তি পেলাম. মা উঠে বাথরুমে গেল আমিও গেলাম দুজনেই ধুইয়ে পরিস্কার হয়ে এলাম. মা ছায়া পরে ব্রা ব্লাউস পরে নিল আমি প্যান্ট পরে নিলাম. তারপর দুজনে শুয়ে পরলাম. মা বলল এখন ঘুমাস না. উঠে যেতে যেতে দেরী হবে।আম্মার পুটকির ভেতরে আমার ধোন,আম্মুর পাছা চোদা,কিশোর ছেলে ও যুবতী মায়ের চোদাচুদি,খানকি মাকে রেপ করা,খানকী মাকে জোর করে চোদা,চটির তালিকা,চটী,পারিবারিক গ্রুপসেক্স,বংলাদেশী পর্ণ গল্প,বাঙলা চটী,বাঙলা চোটি গল্প,বাঙলা চোটি মা,বিধবা মাকে চুদে চুদে সেবা করা,মা ও খালাকে একসাথে চদা,মা ছেলের ইনসেস্ট গল্প,মা ছেলের চদাচুদি,মা ছেলের প্রেম.,মাকে দিয়ে বীচি চোষানো,মাকে প্রসাব মূত খাওয়ানো,মাকে বীর্য খাওয়ানো,মায়ে পুটকী চোদা,মায়ের গালে ধোন ঘসা,মায়ের গুদ দেখা,মায়ের মুখে মুতা,মায়ের হাতে আমার ধোন.

आणि माझा लंड आतुर झाला होता

प्रेषक: सुमित

हेल्लो मित्रांनो माझे नाव सुमित आहे आणि माझे वय २४ वर्षे आहे. मित्रांनो मी आज तुम्हाला माझी एक खरी गोष्ट सांगणार आहे आणि मला आशा आहे कि ती तुम्हाला सर्वांना खुप आवडेल. तुमच्या सारखे मला पण सेक्सी गोष्टी वाचणे खुप आवडते आणि मी मागचे तीन वर्षे गोष्टी वाचत आहे.
मित्रांनो ही गोष्ट माझ्या शेजारी राहणाऱ्या खूप सेक्सी आंटी जिचे नाव रश्मी आहे तिच्या जवाजवी ची आहे आणि मी तिला ठोकून संतुष्ट केले. ती माझ्या शेजारी मागची तीन वर्षे झाली राहत आहे, तिचा नवरा एका कंपनी मध्ये मार्केटिंग चे काम करतो आणि त्यामुळे ते त्यांचा वेळ जास्त करून घरा पासून दूर घालवतात आणि त्यावेळी आंटी घरात एकटी असते.
मित्रानो आंटी चे वय ३६ वर्षे आहे. पण ती तिच्या सेक्सी शरीर, भरलेली छाती, सुंदर चेहरा, हलणारी गांड आणि सुंदर हास्य यामुळे दिसायला ती एक २६ वर्षांची कन्या वाटते आणि तिचे फिगर ३८-३०-३६ आहे आणि तिचा रंग खुप गोरा आहे. मित्रांनो तिला एक दहा वर्षांचा मुलगा पण आहे आणि तो तिच्या नानी कडे राहतो. पण तिला पाहून अजिबात असे वाटत नाही कि ती त्या मुलाची आई असेल.
मित्रानो ती जास्त करून दिवसा घरी एकटी असायची आणि आमचे कधी कधी भटने होत असे, मी सकाळी तिचा सुंदर चेहरा पाहायचो आणि तिच्या मस्त आठवणी मनात ठेवून कामा वर जात असे आणि मग दिवस भर तिच्या मस्त हास्याचा विचार करीत राहायचो आणि मनातल्या मनात खुप खुश होत होतो कारण मी तिच्या शरीराचा पूर्ण दिवाना बनलो होतो.
एक दिवस मी माझ्या ऑफिस च्या काही कामाने माझ्या घरी थोडा लवकर घरी आलो आणि मी पहिले कि आंटी तिच्या घरच्या दरवाजा जवळ उभी होती आणि माझ्या कडे पाहत होती. मग मी पण तिला नेहमी सारखा स्माईल देऊन जात होतो कि तिने मला मागून आवाज दिला आणि मला तिच्या कडे बोलवले आणि मी तिच्या कडे गेलो. तेव्हा ती मला सेक्सी अंदाज मध्ये हसत म्हणाली कि मी एक नवीन टच स्क्रीन फोन घेतला आहे, पण मला यातून येणारे कॉल घेणे आणि अजून काही समजत नाही आहे, तू मला यावर थोडे सांगू शकतोस का? मित्रांनो आमच्या मजल्यावर फक्त दोन फ्लेट होते, एक तिचा आणि एक माझा आणि त्यामुळे मला बाहेरचा कोणी आम्हाला पाहिल आणि कोणाला तरी सांगेल याची अजिबात भीती नव्हती. दोस्तों आप यह कहानी मस्ताराम.नेट पर पढ़ रहे है | मग मी सरळ तिच्या जवळ गेलो आणि तिचा फोन माझ्या हाता मध्ये घेऊन तिला फोन चे सांगू लागलो आणि मी तिला फोन कसा उचलायचा हे सांगू लागलो. मग मी पहिले कि ती पण एकदम माझ्या जवळ आली आणि त्यामुळे आता माझा हात तिला स्पर्श करू लागला वाह मित्रांनो काय नरम नरम बुब्स होते तिचे? मग मी हळूच माझ्या हाताने तिचे बॉल वर उचलले आणि मी असे वर्तन करू लागलो कि ते माझ्या कडून नकळत घडले आहे.
मग मी पहिले कि तिने मला काही न बोलता माझ्या कडे पहिले आणि मला एक सेक्सी स्माईल दिली आणि मी समजलो कि माझी गाडी आता चालू झाली आहे आणि मी खूप खुश झालो आणि मग ती काही वेळाने आत निघून गेली. मग मी पण काही वेळाने इथून निघून गेलो आणि तिचा विचार करू लागलो.
मित्रांनो त्या दिवसापासून मला तिचे वागणे बदलले आहे असे जाणवू लागले, ती आता माझ्या ऑफिस ला जाण्याच्या आणि येण्याच्या वेळी बाहेर दरवाजा जवळ उभी असायची आणि आता ती मोठ्या गळ्याचे ब्लाउज आणि जाळीदार साडी घालू लागली होती, आणि त्यामुळे मला तिच्या साडी मधून तिचे मस्त आणि गोल मोठे बॉल खूप चांगल्या रीतीने दिसू लागले होते आणि मला तिची बेंबी आणि कमर पण आरामात दिसत होती कारण ती तिची साडी थोडी खाली ठेवून नेसू लागली होती.
मित्रांनो आता मला समजले होते कि हे सर्व ती मला तिच्या कडे आकर्षित करण्यासाठी करीत आहे आणि मग तसेच घडले जसे तिला हवे होते. आता मी तिला पाहून तिच्या कडे आकर्षित होऊ लागलो आणि मी रोज रात्री झोपण्या अगोदर तिला आठवून तिच्या नावाने मुठ मारू लागलो होतो आणि मला सर्व ठिकाणी ती दिसू लागली होती. मी तिला नेहमी माझ्या जवळ आभास करू लागलो आणि मी तिला काही ना काही करून जवायचा मार्ग शोधत होतो. कारण मला समजले होते कि सेक्स ची आग आमच्या दोघांमध्ये बरोबर लागली आहे आणि आम्हाला एकमेकांची गरज आहे.
एक दिवस नेहमी प्रमाणे मी माझे ऑफिस संपल्या वर माझ्या घरी पोचलो आणि मी त्या वेळी मी जिन्यातून माझ्या फ्लेट वर चाललो होतो कि अचानक आंटी मागून आली. मित्रांनो मी मागे वळून तिच्या कडे पहिले आणि मी एकदम दंग झालो, कारण ती त्या वेळी काय कमाल दिसत होती. तिने गुलाबी रंगाची जाळी दार साडी आणि गुलाबी रंगाचा एक टाईट ब्लाउज घातला होता आणि त्या मोठ्या गळ्याच्या ब्लाउज मधून तिचे बॉल जणू बाहेर यायला धडपडत होते आणि माजी नजर तिच्या वरून बाजूला होत नव्हती आणि मी तिच्या कडे पाहत होतो आणि ती माझ्या कडे पाहून हसत होती.
मग काही वेळाने ती मला म्हणाली कि तू मला असे काय पाहत आहेस? मग मी तिला काही म्हणालो नाही आणि माझी नजर थोडी खाली केली आणि काही वेळ उभा राहिलो पण माझ्या मनात अजून तिच्या साठी खूप काही चालू होते आणि मग मी पुढे जायला निघालो तेव्हा मला अचानक तिच्या ओरडण्याचा आवाज आला आणि मी वळून मागे पहिले तर ती ओरडत होती आणि मग ती बसली आणि मी पहिले कि तिचा पाय मुरगळला होता.
मग मी पटकन तिला माझ्या हाताने सहारा देऊन उभे केले आणि तिला तिच्या फ्लेत मध्ये घेऊन गेलो, पण तिला अजून अजिबात चालता येत नव्हते आणि ती काही वेळ चालून पूर्ण माझ्या हातात आली आणि मी तिला सहारा दिला. मग मी तिला वर उचलून तिला तिच्या बेड रूम मध्ये घेऊन गेलो आणि मग मी तिला बेड वर झोपवले आणि मी पहिले कि ती अजून तिच्या दुखण्याच्या त्रासाने ओरडत होती.
मग मी तिला मलम मागितले आणि तिला आरामात बेड वर सरळ झोपवले आणि मग मी तिच्या पाया मध्ये हळू हळू मसाज करू लागलो आणि मग दोन मिनिटांनी ती आवाज करू लागली. मित्रांनो आता मला चांगले समजले होते कि पाय मुरगळने हे एक कारण होते आणि आज तिच्या पुच्ची मध्ये खूप आग लागली होती आणि तिला आज तिची आग माझ्या कडून थंड करून घ्यायची आहे आणि म्हणून तिने हे सर्व केले.
आता मी मनातल्या मनात ठरवले होते कि आज मी तिला जरूर जवणार, मग मी हळू हळू माझा हात वर घेऊन जाऊन मसाज करू लागलो आणि तिने तिचे पाय हळू हळू पसरणे चालू केले. मग मी पण हळूच तिची साडी वर करून तिच्या गरम आणि मोठ्या मांडी वर माझे हात फिरवणे चालू केले. मित्रांनो काय करणार तिला पाहून मी ते करण्या पासून स्वतः ला रोखू शकलो नाही. दोस्तों आप यह कहानी मस्ताराम.नेट पर पढ़ रहे है | आता मला समजले कि तिच्या पुच्ची मध्ये जोश येऊ लागला आहे आणि मी वेळ न घालवता तिच्या पुच्ची ला तिच्या पेंटी वरून कुरवाळू लागलो आणि मी हात लावून पहिले कि ती एकदम ओली झाली होती. मग तिने तिची कमर थोडी वर केली आणि मी वेळ न घालवता पटकन तिची पेंटी काढून टाकली आणि तिचा वास घेऊ लगलो. मित्रांनो तुम्हाला सर्वांना मी काय सांगू त्यामध्ये काय मस्त वास येत होता आणि त्याचा वास घेऊन माझा लंड तर एकदम लोखंडी सळी सारखा कठोर बनला. मला पण आता सहन झाले नाही आणि मी पण माझी जीभ तिच्या पुच्ची वर लावली….

कहानी जारी है …. आगे की कहानी पढने के लिए निचे दिए गए पेज नंबर पर क्लिक करे |

The post आणि माझा लंड आतुर झाला होता appeared first on Mastaram.Net.

दोस्त की मम्मी

Marathi Sex Stories एक दिन की बात है, मैं अपने दोस्त के घर गया हुआ था, वो घर पर नहीं था, यह बात मुझे नहीं पता थी। मैं गया तो उसके घर का दरवाजा खुला हुआ था, तो मैं ऐसे ही उसके घर में घुस गया, मेरा समय अपने घर कम और उसके घर में ज्यादा बीतता था तो उसके घर आना जाना रहता था।
तो हुआ यों कि मैं उसके घर में घुस गया और सीधे उसके कमरे में जाने लगा तो उसके बगल वाले कमरे से मुझे छन छन की आवाज़ आ रही थी जैसे कोई पायल या फिर कोई चूड़ी खनका रहा हो।मैं वापिस पीछे को आया और खिड़की के पास रुक गया और सुनने लगा, मुझे अंदर की आवाज़ ठीक से सुनाई तो नहीं दे रही थी पर इतना दिमाग था कि पहचान सकूँ कि यह किस किस्म की आवाज़ है।
थोड़ा ध्यान दिया आवाज़ की तरफ तो मेरा लंड एकदम से तन गया, अंदर से पेला-पेली की आवाज़ आ रही थी। मैंने बहुत कोशिश की अंदर झांकने की कि कौन है, क्योंकि इससे पहले भी मेरा दोस्त अपने घर में लड़की लाकर खा चुका था, अगर मेरा दोस्त होता तो मुझे भी मौका मिल जाता पर असल में है कौन, वो देखना था मुझे।
मैंने बहुत कोशिश की और अंत में कामयाबी मिली तो देखा कि मेरे दोस्त के मॉम-डैड थे, मुझे थोड़ा अजीब लगा पर यह सब चलता रहता है। मैंने देखा कि अंकल आंटी की टांगों को उठा कर अपने कंधे पर रख कर उनकी ठुकाई कर रहे थे।
मैं कुछ देर वहीं खड़ा रहा और देखता रहा, दस मिनट की चुदाई देख ली, मैंने उसके बाद जो हुआ तब मेरी फट गई।
हुआ ये कि हवा काएक तेज झोंका आया और खिड़की का अंदर का पर्दा उड़ गया और आंटी ने मुझे देख लिया कि मैं देख रहा हूँ, पर मुझे झटका तब लगा जब आंटी ने मुझे देख कर भी अनदेखा किया और अंकल से चुदवाती रही।
अब मुझे लगा कि मेरा वहाँ खड़े रहना खतरे से खाली नहीं है और मैं वहाँ से नौ दो गयारह हो लिया।
अगले दिन मैं फिर से उनके घर गया, पर मुझे बहुत शर्म सी आ रही थी। इस बार मैंने उनके घर की घंटी बजाई और फिर अंदर गया जब मेरे दोस्त ने दरवाजा खोला।
मैं अंदर गया तो उसने मुझसे पूछा- आज क्या हुआ तुझे, आज तूने घंटी बजाई? तू ठीक तो है ना? आज तुझे घंटी बजाने की क्या जरुरत पड़ गई। तब उसकी माँ वहीं बगल से निकल कर गई और मुझे तिरछी नजर से देखा।
मैं क्या बोलता उसे, मैंने बोला- अरे घंटी बजानी चहिये, इसे तमीज़ कहते हैं।
वो बोला- आज तुझे पक्का कुछ हुआ है, चल कोई बात नहीं आ चल कमरे में।
मैं उसके साथ बैठ गया और उसके कंप्यूटर में गेम खेलने लगा, कुछ देर के बाद वो बोला- तू खेल, मैं नहा कर आता हूँ !
और फिर वो नहाने चला गया।
मैं खेलता रहा तब तक उसकी मॉम भी उसी कमरे में आ गई और मुझे पानी दिया पीने को।
मैंने पानी लिया और पीकर गिलास वहीं बाजू में रख दिया। आंटी अब भी वहीं खड़ी थी और जब गिलास उठाने के लिए झुकी तो अपनी चुन्नी गिरा दी और मुझे अपने चुच्चों के दर्शन करा दिए।
मेरी फिर से सूख गई कि यह हो क्या रहा है आजकल।
अब आंटी मुझे देखने लगी और पूछने लगी- क्या देख रहे हो?
मैं क्या जवाब देता, मैं बोला- कुछ नहीं ! गलती से दिख गया।
फिर आंटी बोली- आज गलती से दिख गया और कल जो देखा वो भी क्या गलती थी?
मैंने उन्हें सोरी बोला और फिर आँखें नीची करके चुप बैठा रहा।
वो बोली- कोई बात नहीं पर अगली बार से ऐसा मत करना, अच्छी बात नहीं होती यह सब।
कुछ देर के बाद आंटी फिर से कमरे में आई और मुझे बोली- कल जो देखा और आज जो देखा किसी को बताना मत।
मैंने कहा- जी मैं ये सब बातें नहीं करता किसी से !
फिर आंटी चली गयी। मैं फिर थोड़ी देर के बाद अपने घर चला गया आंटी को बोल कर। घर जाकर मुझे याद आया कि मैं उनके घर में अपना घड़ी भूल गया।
शाम को मैं फिर उनके घर गया और आंटी से दोस्त के लिए पूछा तो वो बोली- वो दोपहर से कहीं गया हुआ है।
मैंने कहा- ठीक है।
फिर मैंने आंटी को बोला कि मैं अपनी घड़ी उसके कमरे में भूल गया हूँ।
आंटी बोली- रुको, मैं लाकर देती हूँ।
आंटी फिर आई और बोली- तुम ही देख लो, मुझे नहीं मिल रही है।
मैं फिर उसके कमरे में गया, देखा कि मेरी घड़ी तो वहीं सामने रखी हुई है, मैंने घड़ी ली और आंटी के कमरे में यह बोलने के लिए गया कि मैंने घड़ी ले ली है, मैं जा रहा हूँ।
पर जब में उनके कमरे में गया तो मेरी आँखें फटी की फटी रह गई। मैंने देखा कि आंटी ब्लाउज और पेटीकोट में खड़ी है और मेरी तरफ ही देख रही हैं जैसे उन्हें मेरा ही इंतज़ार था कि मैं आऊंगा और उन्हें इस हाल में देखूंगा।
मैंने उन्हें देख कर बोला- आंटी, यह क्या? अभी तो आप साड़ी में थी और यह अचानक?
आंटी बोली- तुम्हारे लिए उतार दी।
मैं बोला- आंटी, मैं आपका मतलब नहीं समझा।
वो बोली- इतने भोले मत बनो, आओ मेरे पास आओ, और कल तुमने क्या क्या सीखा मुझे बताओ।
मैं आंटी की तरफ बढ़ा और आंटी से चिपक गया। फिर आंटी ने भी मुझे कस कर गले लगा लिया और मुझे चूमने लगी।
मैंने भी मौके को गंवाया नहीं और उनके होठों को चूसने लग गया।
मैं पहली बार किसी आंटी को चूम रहा था और मुझे आंटी को चूमने में काफी मज़ा आ रहा था। उनके होंठ एकदम किसी जवान लड़की की तरह थे, एकदम वही मज़ा मिल रहा था मुझे।
अब आंटी ने मुझे बिस्तर पे बिठा दिया और मेरे सामने घुटने के बल बैठ गई और मेरी पैंट की ज़िप खोलने लगी। मैं खड़ा हुआ और जल्दी से ज़िप खोल कर उनके सामने मैंने अपना लंड लटका दिया।
आँटी बोली- काफी अच्छा है तुम्हारा लंड !
और फिर उसे पकड़ कर दबाने लग गई। उनके दबाने से तो मेरे अंग अंग में करंट सा दौड़ पड़ा, अब कुछ देर के बाद उन्होंने मेरे लंड को मुँह में ले लिया और उसे कस कस कर चूसने लगी।
वो एकदम उनकी तरह चूस रही थी जैसे ब्लू फिल्म में चूसते हैं, एकदम सर को आगे पीछे कर कर के चूस रही थी।
मैं बिस्तर पर लेट गया और वो मेरा लंड चूसती रही, कुछ देर के चूसने के बाद उन्होंने मेरी पैंट और फिर शर्ट दोनों उतार दी और मेरे पूरे जिस्म को चूमने लगी, फिर एक हाथ से मेरे लंड को दबाए जा रही थी।
कुछ देर के बाद मैंने उन्हें लेटा दिया और उनके चुचों को ब्लाउज़ के ऊपर से ही काटने लगा। थोड़ी देर काटने के बाद उन्होंने खुद अपनी ब्लाउज़ उतार दी और फिर मुझे चूसने को कहा।
मैं उनके एक चुच्चे को चूसता तो दूसरे को मसलता रहता। दस मिनट तक मैं उनकी चूचियों को गर्म करता रहा और वो दस मिनट तक सिसकारियाँ भरती रही।
मैं अब उठा और उनके पेटीकोट के अंदर सर डाल दिया और उनकी पेंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को हल्के हल्के काटने लग गया। उनकी पेंटी पूरी गीली हो चुकी थी और उसमें से महक आ रही थी जैसे चूत में से आती है।
मैं उनकी पेटीकोट के अंदर ही पगला गया और उनकी पेंटी की बगल में से उनकी चूत में उंगली करने लगा।
पाँच मिनट के बाद मैंने अपना सर बाहर निकाला और उनकी पेटीकोट के साथ साथ उनकी पेंटी भी उतार दी। अब आंटी मेरे सामने पूरी नंगी थी, उनकी चूत पर काफी बाल थे, पर मुझे उससे कुछ फर्क नहीं पड़ा।
मैं दोबारा उनके चुचों पर टूट पड़ा और उन्हें कस कस कर चूसने लगा। वो अब सिसकारियों पे सिसकारियाँ भरने लगी- ओह ह्मम्म क्या मज़ा आ रहा है और जोर से चूसो इसे, खा जा इसे ऊह ओऊ हम्म्म येह्ह्ह्ह किये जा रही थी।
मैं उन्हें चूमते चूमते उनकी चूत की तरफ आ गया, और फिर उनके चूत के बालों को एक तरफ किया और उनकी चूत में जीभ रगड़ने लग गया। उन्होंने मेरे सर पर हाथ रखा और मुझे अपनी चूत पर कस के दबा लिया, मैं उनकी चूत को और कस के रगड़ने लगा, मैं बीच बीच में उनकी चूत की पंखुड़ियों को अपने होठों से काटने लगा और उनकी चूत की छेद को में अपने जीभ से धकेल भी देता बीच बीच में।
जितने बार उनकी छेद में जीभ से धक्का देता उतनी बार वो सिकुड़ जाती और उफ्फ्फ्फ्फ़ आह करने लग जाती।
अब वो बोली- और कब तक से चूसेगा, जल्दी से अपना प्यारा लंड डाल दे, मैं और नहीं रुक सकती, जल्दी कर।
मैं उठा और उनकी चूत पर लंड सटा दिया और धक्का दिया, पहले जब लंड घुसा तब वो हल्का सा चीखी और फिर शांत हो गई। मैंने धक्का देना शुरु कर दिया और कुछ 8-10 धक्कों के बाद वो भी अपना गांड उठा उठा कर मुझे अपनी चूत देने लगी। उन्होंने मुझे कस के पकड़ लिया, उनकी उंगलियों के नाख़ून मुझे चुभने लगे। मैं फिर भी उन्हें कस कस के धक्का देता गया और वो अपना गांड उठा उठा कर अपनी चूत देने लगी और मेरा लंड जल्दी जल्दी लेने लगी। वो अब तक दो बार झड़ चुकी थी।
मैंने उन्हें अब घोड़ी बनने के लिए बोला तो वो बोली- गांड नहीं दूंगी चूत मार ले।
मैंने कहा- गांड नहीं मारनी, चूत ही मारूंगा मगर पीछे से।
वो बोली- ठीक है।
और फिर घोड़ी बन गई, मैंने पीछे से उनकी चूत में लंड घुसा दिया, मैं अब लंड धीरे धीरे अन्दर बाहर कर रहा था।
मैं फिर एकदम से रुक गया और एक ही झटके में मैंने लंड चूत से हटा के गांड में दे दिया और उनकी गांड फट गई।
वो एकदम से बुरी तरह चीख उठी और मुझे गालियाँ देने लगी, बोली- कुत्ते, तुझे मना किया था न गांड में नहीं तो फिर क्यों दिया?
मैंने उनकी बात नहीं सुनी और गांड मारता रहा, करीब दस मिनट बाद वो खुद अब अपनी गांड पीछे की तरफ धकेलने लगी, मैं आगे की तरफ शोट मारता और वो पीछे की तरफ !
हम दोनों पूरा मज़ा ले रहे थे, इसमे भी वो एक बार झड़ गई और फिर कुछ देर के बाद मैं भी उनकी गांड में झड़ गया।
जब मैंने लंड निकाला तो कुछ पलों के बाद उनकी गांड से मेरा मुठ निकलने लग गया, उन्होंने अपनी गांड में उंगली फेरी और मेरे मुठ को उंगलियो से लेकर चाट गई।
मैंने फिर उनके मुँह में अपना लंड दे दिया और साफ़ करने को बोला।
उन्होंने मेरे लंड को एकदम साफ़ कर दिया और हम दोनों एक दूसरे के ऊपर नंगे लेट कर चूमते रहे।
फिर मैंने उन्हें कहा- अब मैं चलता हूँ फिर कभी और करेंगे।
मैं उठा और कपड़े पहन लिए और वो भी अपनी साड़ी पहनने लगी, और फिर हम पाँच मिनट में ठीक ठाक हो गए।
मैंने आंटी से पूछा- अंकल, तो कल मस्त मजा दे रहे थे फिर मेरी जरुरत क्यों पड़ी?
आंटी बोली- उनका तरीका मस्त है पर जल्दी झड़ जाते हैं, और सिर्फ हफ़्ते में एक बार ही पेलते हैं। मुझसे नहीं रहा जाता, एक तो जल्दी भी झड़ जाते हैं और एक हफ्ता बैठ कर मुठ जमा करते हैं।
मैं उनको कुछ पल तक देखता रहा और फिर एक चुम्मी देके चला गया। इसके बाद तो मैंने आंटी को काफी बार पेल चुका हूँ।

The post दोस्त की मम्मी appeared first on Marathi Sex.